https://www.aryasabha.com ARYASABHA
https://www.aryasabha.com

Checking delivery availability...

background-sm
Search
919977987777

Updates found with '16sanskaro ke liye smpark'

Page  1 1

Updates found with '16sanskaro ke liye smpark'

#VedVigyanAlok #Agnivrat #VaidicPhysics #VaidicScience #Physics #Vedas #AryaSamaj #SwamiDayanand #Dharma #Universe #VaidicTheoryOfUniverse महाशिवरात्रि एवं महर्षि दयानन्द सरस्वती बोधदिवस कार्यक्रम - 2019हमारा प्रमुख उद्देश्य आध्यात्मिक एवं पदार्थ विज्ञान के यथार्थ तत्व को प्रस्तुत करके दोनों के समुचित समन्वय के द्वारा सम्पूर्ण विश्व से साम्प्रदायिकता, वर्गभेद, जातिवाद, क्षेत्रवाद, भोगवाद-जन्य कट्टरता, हिंसा, वैर, ईर्ष्या का उन्मूलन करके भौतिक विज्ञान के विकास के साथ-2 सत्य, अहिंसा, सदाचार, प्रेम, करुणा, बन्धुत्व जैसे गुणों से युक्त विश्व शान्ति की स्थापना करना।इस महान् कार्य के लिए प्राचीन वैदिक एवं ऋषि-देव परम्परा पर गम्भीर अनुसंधान करके रामायण व महाभारत कालीन प्राचीन ज्ञान विज्ञान को साकार करके वर्तमान विज्ञान की अनेक अनसुलझी गम्भीर समस्याओं का समाधान करना, इससे संसार को वैदिक ज्ञान विज्ञान के साथ-2 प्राचीन भारतीय (आर्यावर्त-देशीय) संस्कृति, सभ्यता व विकास बोध होगा। इस उद्देश्य के लिए न केवल भारत अपितु विश्व के शीर्ष वैज्ञानिकों से भी सतत सम्पर्क करके उन्हें महान् वैदिक विज्ञान के द्वारा मूलभूत भौतिकी के विकास में सहयोग करने का प्रयास करना।इससे संसार के वैज्ञानिकों को इस बात का बोध होगा कि वेद व ऋषियों का ज्ञान विज्ञान किसी सम्प्रदाय से सम्बंधित नहीं अपितु महान् ज्ञान विज्ञान का मूल पे्ररणा व उत्पत्ति स्रोत है, तब संसार का प्रबुद्ध वर्ग अपने पूर्वाग्रहों से मुक्त होकर वर्तमान विज्ञान की भांति उसे अपनायेंगे तथा इसके लिए वे प्राचीन भारत के ऋण को भी अनुभव करेंगे, साथ ही ऋषि मुनियों को अपना ही पूर्वज व आदर्श मानकर विश्व मानवता की एकता में भरपूर सहयोग करेंगे। इससे उन सबका वैदिक आध्यात्मिक विज्ञान (योग साधना), राजधर्म, समाजशास्त्र, आयुर्वेद, कृषि, पर्यावरण तथा संस्कृत भाषा के प्रति भी आकर्षण होगा। इससे विश्व मिथ्या मतमतान्तरों का वैमनस्य समाप्त होकर एक ईश्वरीय वैदिक धर्म अपनाने में यह समर्थ होगा।आपने कार्य और महत्ता को भली​ ​प्रकार समझ लिया होगा, ऐसी आशा करते हैं। यदि आपके हृदय​ ​और मस्तिष्क वेद के इस अपूर्व कार्य के लिए उत्सुक हुए हों और​ ​हमें अपना सहयोग करना चाहें तो आप हमारे यज्ञ में निम्न प्रकार​ ​से सहयोगी बन सकते हैं(We hope that you have understood the research and the importance of our work. If your heart and mind are excited for this unique research of the Vedas and you want to help us, then you can become a partner in our Yajnya as follows)​वयोवृद्ध विद्वान, संन्यासी, साधुमहान वैज्ञानिक महानुभाव​ अपना आशीर्वाद तथा बौद्धिक सहयोग दे सकते हैं।​ विद्यार्थी, किसान, श्रमिक, व्यापारी आदि अपनी पवित्र​ ​आहुति श्रद्धा व​ सामर्थ्य ​के अनुसार सहयोग कर सकते हैं।(Old intellectual scholars, sannyasis, sages, great scientists, other noblemen can give their blessings and intellectual support.Students, farmers, workers, traders etc. can cooperate in accordance with their sacred devotion and strength.)You can #Support_Us through UPI: shrivspnyas@upi​यह कार्य अत्यन्त पवित्र है, इस कारण आचार्य श्री की​ ​भावनानुसार विनम्र निवेदन है कि जिनकी आजीविका किसी भी​ ​प्रकार की हिंसा, चोरी, तस्करी, अश्लीलतावर्धक साधनों, नशीली​ ​वस्तुआ की विक्री, धोखाधड़ी, शोषण आदि पर निर्भर हो तथा जो​ ​निर्धन भाई अपनी ​सामर्थ्य ​से अधिक (अथवा अपने परिवार में​ ​क्लेश करके) दान देना चाहते हों, ऐसे महानुभावों की सद्भावना​ ​का धन्यवाद करते हुए भी हम उनका दान लेने में असमर्थ हैं।​ ​कृपया ऐसा करने का प्रस्ताव करके हमें लज्जित न करें। हाँ, जो​ ​बन्धु ऐसे कर्मों को त्यागकर हमसे जुड़ना चाहें, तो उनका हार्दिक​ ​स्वागत है​​।(Note: This is Very Holy work, so according to the emotions of Acharyaji we are not able to accept the donations from the people whose life is related to any of this profession like- Smuggling, Violence, theft, sexuality enhancer products, selling of intoxication products, Betrayal, Exploitation etc. Yes, anyone who wants to join us by leaving these professions, then we will welcome them.)https://youtu.be/HFTfC8OlSp4
Send Enquiry
Read More
Page 1 0.9
services